भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आवत जात समीप लखत न कोई रे / संत जूड़ीराम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आवत जात समीप लखत न कोई रे।
बिन सतगुरु के उपदेश भ्रमत नर सोई रे।
त्रिकुटी महल विसावल जहाँ धुनल्याईये।
सुरत शब्द में राख और बिसराईये।
अधर अनूप निवास पुरष जहं रत है।
आठ पहर दिन रैन सोहम् करत है।
लगो सुहावन देस जगो मन थक रहो है।
लियो सुरत पहचान अचल पद पाईये।
परमधाम परगास और जंजाल है।
जूड़ीराम चितचेत शबद की ढ़ाल है।