भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आवारा न हो जाएँ / हेमन्त श्रीमाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रोको इन हवाओं को आवारा न हो जाएँ
पत्ता ही पत्ते का हत्यारा न हो जाए

मज़हब की लड़ाई में डर है तो महज़ इतना
टुकडे़ टुकडे़ ऑंगन दोबारा न हो जाए

चाहत के घरौंदो तक बारूदी सुरंगें हैं
भूले से कोई पागल अंगारा न हो जाए

कुर्सी ने बना डाले गलियारे ही गलियारे
अब तो ये दुआ है कि अँधियारा न हो जाए