भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आव पियारे मीत हमारे / दादू दयाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आव पियारे मीत हमारे।
निस-दिन देखूँ पाँव तुम्हारे॥टेक॥

सेज हमारी पीव सँवारी।
दासी तुम्हारी सो धन वारी॥१॥

जे तुझ पाऊँ अंग लगाऊँ।
क्यूँ समझाऊँ बारण जाऊँ॥२॥

पंथ निहारूँ बाट सवारूँ।
दादू तारूँ तन मन वारूँ॥३॥