भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आशिक़ों को ऐ फ़लक देवेगा तू / 'ऐश' देलहवी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आशिक़ों को ऐ फ़लक देवेगा तू आज़ार क्या
दुश्मन-ए-जाँ उन का थोड़ा है दिल-ए-बीमार क्या

रश्क आवे क्यूँ न मुझ को देखना उस की तरफ़
टकटकी बाँधे हुए है रोज़न-ए-दीवार क्या

आह ने तो ख़ीमा-ए-गर्दूं को फूँका देखें अब
रंग लाते हैं हमारे दीदा-ए-ख़ूँ-बार क्या

मुर्ग़-ए-दिल के वास्ते ऐ हम-सफ़ीरो कम है क्यूँ
कुछ क़ज़ा के तीर से तीर-ए-निगाह-ए-यार क्या

चल के मय-ख़ाने ही में अब दिल को बहलाओ ज़रा
'ऐश' याँ बैठे हुए करते हो तुम बेगार क्या