भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

आशिक़ तो नामुराद हैं पर इस क़दर कि हम / सौदा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आशिक़ तो नामुराद हैं पर इस क़दर कि हम
दिल को गवाँ के बैठे रहे सब्र करके हम

कहता था कल किसू से करूँगा किसी को क़त्ल
इतना तो कुश्तनी[1] नहीं कोई मगर कि हम

देखें तो किसकी चश्म[2] से गिरता है लख़्ते-दिल[3]
तू इस तरह से रो सके ऐ अब्रे-तर[4] कि हम

बैठा न कोई छाँव, न पाया किसी ने फल
बे-बर्गो-बर[5] नहीं कोई ऐसा शजर[6] कि हम

क़ासिद[7] के साथ चलते हैं यूँ कहके मेरे अश्क
देखें तो पहले तू पहुँचे है तू नामाबर[8] कि हम

इतना कहाँ है सोज़तलब[9] दिल पतंग[10]का
रखती नहीं है शमा भी ऐसा जिगर कि हम

'सौदा' न कहते थे कि किसी को तू दिल न दे
रुसवा[11] हुआ फिरे है तू अब दर-ब-दर कि हम

शब्दार्थ:

शब्दार्थ
  1. मारने योग्य
  2. आँख
  3. दिल का टुकड़ा
  4. भीगा बादल
  5. पत्तों और फलों से रहित
  6. पेड़
  7. संदेशवाहक
  8. पत्रवाहक
  9. आग का इच्छुक
  10. पतंगा
  11. बदनाम