भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आश्ना गम से मिला राहत से बे-गाना मिला / कलीम आजिज़

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आश्ना गम से मिला राहत से बे-गाना मिला
दिल भी हम को खूबी-ए-किस्मत से दीवाना मिला

बुलबुल-ओ-गुल शम्मा ओ परवाना को हम पर रश्क है
दर्द जो हम को मिला सब से जुदा-गाना मिला

हम ने साकी को भी देखा पीर-ए-मैखाना को भी
कोई भी इन में न राज़-आगाह-ए-मै-ख़ाना मिला

सब ने दामन चाक रक्खा है ब-कद्र-ए-एहतियाज
हम को दीवानों में भी कोई न दीवाना मिला

हम तौ खैर आशुफ्ता-सामाँ हैं हमारा क्या सवाल
वो तो सँवरें जिन को आईना मिला शाना मिला

क्या कयामत है के ऐ ‘आजिज़’ हमें इस दौर में
तबा शाहाना मिली मंसब फकीराना मिला