भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आसन पर आसीन भेॅ गेलोॅ / सियाराम प्रहरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आसन पर आसीन भेॅ गेलोॅ
लम्पट लोभी चोर उचक्का

मौसम बदलि गेलोॅ छै एन्हों
लोग देखी के छै भौचक्का

राजनीति के खेल देखियै
सभ्भे हाथ लुकाठी लुक्का

संसद के गतिविधि देखी केॅ
कथी लेॅ छोॅ तों हक्का-बक्का

होकरोॅ हाल आरु नै पूछॉे
मारि रहल छै चौका छक्का।