भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आसमान पर बिंदी / पूर्णिमा वर्मन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बिंदी जो कभी थी एक बूंद रक्त
होती गई बड़ी समय के साथ
इतनी बड़ी कि
औरत ने उसे उतारा
और टांग दिया आसमान पर
सूरज की तरह
अब वह सूरज उसकी राहों को
रोशन करता है

हंसुली बरसों तक
जो लटकी रही गले में
अचानक एक दिन इतनी भारी लगी
कि
औरत ने उसे उतारा
और टांग दिया आसमान पर
चांद की तरह
ओह मन ऐसा शीतल हुआ कि
जैसे चंद्रकिरण समा गई हो
भीतर तक

किसी को पता नहीं चला
समय के साथ
औरत हो गई कितनी ऊंची
कि अपनी ही बिंदी अपनी ही हंसुली
आसमान पर टांग
अपनी राह खोज ली उसने
खोज ली अपनी शांति

लोग नहीं जानते
जो दूसरों के लिये खटने वाले
अपना भी कर सकते हैं कायापलट!