भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आसा की जोत / गुणसागर 'सत्यार्थी'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रैंन अँदिरिया गैल भुलानी;
हिलबिलान हो गई जिँदगानी।

मिरगा ढूँड़ रए कस्तूरी,
आसा होत न उनकी पूरी।
भरत चौकड़ीं देख मरीची
कितनी नाप लई है दूरी।

सेंत-मेंत हो रई नादानी;
हिलबिलान हो रई जिँदगानी।

कौन घरी में भाँवर पारी,
घिरी बदरिया कारी-कारी।
धुरुब तरइया देख न पाए-
कैसें गैल मिलै अबढारी?

थेबौ खात फिरत अग्यानी;
हिलबिलान हो गई जिँदगानी।

दूर बजत कऊँ ढोल-नगारे,
बैरे हो गए कान हमारे।
बेबस होकें सबई तराँ सें-
भटक रए नित मारे-मारे।

चीर दए नभ-थल औ पानी,
हिलबिलान हो रई जिँदगानी।

आसा तौऊ पैले पार,
कैसें कोऊ मानें हार।
हार न मानी जब मकरी नें,
गिर-गिर चढ़त रई हरदार।

चढ़ी-चढ़ी मकरन्दो रानी;
इक दिन पार लगै जिँदगानी।