भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आसौ दे गऔ साल करौंटा / ईसुरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आसौ दे गऔ साल करौंटा,
करौ खाव सब खौंटा।
गोंऊ पिसी खाँ गिरूआ लग गव
महुअन लग गओ लौंका।
ककना दौरीं सबधर खाये
रै गव फकत अनोंटा।
कात ईसुरी बाँधें रइयो
जबर गाँठ कौ घोंटा।