भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आस इक भी / श्याम सखा 'श्याम'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आस इक भी अगर फली होती
ज़िंदगी तू बहुत भली होती

यों थिरकती, महकती क्या ये हवा
बगिया माली ने गर छली होती

माँग लेते तुझे सितारों से
उसके आगे अगर चली होती

स्नेह-भर जो हमें मिला होता
फिर न कोई कमी खली होती

लोग क्यों बदनसीब कहते तुझे
गर मिली यार की गली होती

सब तरफ़ मेरे बस खड़ा था तू
फिर न क्योंकर मैं मनचली होती

कौन झुकता यों तेरे आगे 'श्याम'
जो न तेरी उमर ढली होती