भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आस / राजूराम बिजारणियां

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

फेरूं-
जळ जावै
बुझतां दिवलां री लौ
सम्भळ जावै
गिरतां-पड़तां
सोच परो माणस-
कांई दूर-कांई ..?
जद ताईं जीवंती है
आस