भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आ गया प्यार का जमाना है / सुनीता पाण्डेय 'सुरभि'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आ गया प्यार का जमाना है।
उम्र भर अब तो मुस्कुराना है॥

जाने कब मुझको अलविदा कह दे-
जिन्दगी का कोई ठिकाना है।

मिलके गाते थे गीत जो हम-तुम-
फिर लबों पर वही तराना है।

 तेरे-मेरे ये दरमयाँ हमदम-
सिलसिला प्यार का पुराना है।

ऐ सनम तुझपे सब लुटा दूँगी-
पास जो प्यार का ख़जाना है।

शब गुज़ारी है किस तरह मैंने-
हाले-दिल ये उन्हें सुनाना है।

मौसमे-गुल को देखकर शायद-
फिर सुनीता का दिल दीवाना है।