भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आ जैहो बड़ी भोर दही लैके / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

आ जैहों बड़ी भोर दही लैकें
आ जैहों बड़ी भोर।
ना मानो कुंड़री धर राखो।
मुतियन जड़ी है कोर। सखी री...
ना मानो मटुकी धर राखो
लिखें पपीरा मोर। सखी री...
ना मानो गहने धर राखो,
बाजूबंद अमोल। सखी री...
ना मानो मोई खों बिलमा लो,
जोड़ी बनत अमोल। सखी री...
चन्द्रसखी रस बस भई राधा।
छलिया जुगल किशोर। सखी री...
आ जैहों...