भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आ डोलाँ फनाँ के महिसौथामे जइतीयै यौ / मैथिली लोकगीत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैथिली लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

आ डोलाँ फनाँ के महिसौथामे जइतीयै यौ
हौ सब दिन पूरबा तीसीपुरमे बहै छह।
एक दिन पछिया महिसौथा घुरतै।
आ जइ दिन अऔतै मोती दुलरूआ
अपने से बिआह हौ तीसीपुरमे करतै।
आ डोलीयाँ फनाँ के आइ कुसमा के लऽ जेतै हौऽ।