भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आ ढोला इन्हाँ राहाँ ते (ढोला) / पंजाबी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

आ ढोला इन्हाँ राहाँ ते
दीवा बाल रक्खाँ खनगाहाँ ते
तेरीयाँ मन्नताँ
जीवें ढोला !

मंजी बाण दी--
ढोले दीया 'रमजां' मैं सब्बे जाणदी--

भावार्थ

--'आओ ढोला, इन रास्तों पर
मैं खानकाह(पीर की समाधि) पर दीया जलाए रखती हूँ
तेरी मनौती मानती हूँ
जीते रहो ढोला !

बान की बुनी हुई खाट है
ढोला के मर्म की बातें मैं समझती हूँ !'