भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आ फेरो जे अगुआ / मैथिली लोकगीत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैथिली लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

आ फेरो जे अगुआ
महिसौथा से एलै मालिक यौऽऽ।
हौ अगुआ आबि गेलै तीसीपुरमे
आ बान्ह अय खोलि दीयौ हजमा जी के
सहजे अय दिन हौ राजा जी मानियौ
आ जल्दी अय दिन कुसुमा के मानि लियौ यौऽऽ।