भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आ मेरे साथ बैठ / असंगघोष

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तू
आ मेरे साथ बैठ
बीड़ी पी
फेकड़े जला
घन उठा
पत्थर तोड़
पसीना बहा
हथौड़ा-छेनी पकड़
पत्थर तराश
बना खजुराहो की
मैथुनरत मूर्तियाँ
अथवा
प्रेम का प्रतीक ताजमहल
और
अपने हाथ कटा,

तू
आ मेरे साथ बैठ
चिलम पी
सुट्टा लगा
फिर दोनों मिलकर
साफ करते हैं
बजबजाती गंदगी
बास आए तेरे पास तक
तो बन्द कर लेना
अपनी नाक

तू
आ मेरे साथ बैठ
खालिस एकफूल की
महुआ पी
फिर पोथी-पतरा छोड़
जनेऊ उतार
उससे खाल सिल
जुट जा
मेरे साथ
चमड़ा पकाने

तू
आ बैठ मेरे साथ
जूते गाँठ
पासी बन
भंगी-चूहड़ा
और चमार बन
इन कामों में
तेरी जात!
कहाँ तेरे साथ आएगी?