भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आ री निंदिया, आ री निंदिया / शंभुदयाल सक्सेना

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आ री निंदिया, आ री निंदिया,
सपने भर-भर ला री निंदिया।
सोता है भैया पलने में,
तारों को दे जा री निंदिया।
प्यारी निंदिया, प्यारी निंदिया,
चंदा को संग ला री निंदिया।
मुन्ना के फुलके गालों पर,
फूलों की छवि प्यारी निंदिया।
ओ री ऐसी-वैसी निंदिया,
तेरी ऐसी-तैसी निंदिया।
है तू निपट अनारी निंदिया,
ओ री निंदिया, आ री निंदिया,
माथे पर दे जा री निंदिया।