भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आ सतगुरु मुंहिंजे घर में थियां दिलि बहार मां / लीला मामताणी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आ सतगुरु मुंहिंजे घर में थियां दिलि बहार मां
ॾे दर्शनु हिन दासीअ खे
आहियां इंतज़ार में मां

तुंहिंजे जुदाई मुंहिंजो कयो हालु हीणो आ-2
तो देर छो ऐॾी कई आ
पुकारियां जे प्यार मां ॾे दर्शन

तो प्रेम जे वसि में करे कयो के़द में क़ाबू-2
दिलि घायल हीअ करे वियें
आहियां बेक़रार मां ॾे दर्शन

रातियां ॾींहां नेणनि में, निंढड़ी नथी अचे
तो खां सिवाइ मुंहिंजा मिठिड़ा
आहियां ‘निमाणी’ लाचार मां
ॾे दर्शनु हिन दासीअ खे ...