भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

इंतजार! / असंगघोष

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

इंतजार में
इंतजार निहित था
इंतजार करो,
तूने कहा।

इंतजार मैं
करता रहा
तेरे इस
इंतजार का
कोई अन्त
अभी तक आया नहीं
अधिक इंतजार
अब मैं
नहीं करता
मेरे अपने जाग रहे
समुदाय के साथ
मैं जा रहा हूँ
अब तू करना
नामे-जमा करने
हमारा इंतजार
सचमुच हम
सामना करेंगे
तेरे हर वार का
हम संगठित हो रहे हैं।