भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

इंतिज़ार की रात / ख़ुर्शीद-उल-इस्लाम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तेरी वादी के सनोबर मेरे सहरा के बबूल
उन पे इक लर्ज़ा सा तारी उन के मुरझाए से फूल
तेरा जी उन से ख़फ़ा और मेरा दिल उन पर मलूल

क्या ये मुमकिन है कि उन का फ़ासला हो जाए कम
ख़ाक के सीने पे आख़िर कब तलक ये बार-ए-ग़म