भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

इक्कीसवीं सदी की लोरी / प्रदीप शुक्ल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मम्मी तेरी तुझे सुलाये
सो जा मेरे लल्ला
मम्मी को भी नींद सताये
सो जा मेरे लल्ला

पूरे दिन
ऑफिस में थी मैं
चाँद नहीं ला पाई
तुझे देखने को मैं चन्दा
दौड़ी भागी आई
पीछे थे कुछ काले साये
सो जा मेरे लल्ला

परियों ने तो
बंद कर दिया
सपनों में भी आना
गूगल में कल ढूँढूँगी मैं
परियों वाला गाना
बिजली भी बस आये जाए
सो जा मेरे लल्ला

चाँदी की वो नाव
चुरा कर
चला गया है कोई
सातों बौने अब टीवी पर
करते किस्सागोई
रेशम झूला कौन झुलाए
सो जा मेरे लल्ला

मुझको है
ये पता
दूध तेरा आया पी जाए
लेकिन ख़ुद भूखी रहकर वह
कैसे तुझे खिलाये
मम्मी कैसे उसे भगाए
सो जा मेरे लल्ला
मम्मी तेरी तुझे सुलाये
सो जा मेरे लल्ला