भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

इक दूजे में खोना है / ममता किरण

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

इक दूजे में खोना है
चाँद गगन सा होना है

दो ही मौसम होते हैं
हँसना है या रोना है

जीवन की हर इक लय में
तेरा नाम पिरोना है

क्यूँ न उनको तोड़ ही दो
जिन रिश्तों को ढोना है

उजड़ी शाखें हरी रहें
बीज प्यार के बोना है

उसको पाने की ख़ातिर
उसमें ख़ुद को खोना है