भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

इक शजर सरसब्ज़ था,काटा गया / सिया सचदेव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


इक शजर सरसब्ज़ था,काटा गया
आदमी को हर तरह बांटा गया

मिट गए दिल के सभी शिकवे _गिले
दूरियां को प्यार से पाटा गया

कोई मामूली न थी सतही चुभन
दिल की गहराई तलक काँटा गया

दिल में फिर उम्मीद की शम्में जली
बज उठी शहनाई,सन्नाटा गया

सोचती हूँ क्यूं सिया केवल मुझे
आज़माइश के लिए छांटा गया