भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

इक हक़ीक़त गुमान जैसी है / सुभाष पाठक 'ज़िया'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

इक हक़ीक़त गुमान जैसी है
बे ज़ुबानी बयान जैसी है

क्या पता कल रहे रहे न रहे
हसरते दिल थकान जैसी है

उसकी फ़हरिस्त में मेरी क़ीमत
आख़िरी पायदान जैसी है

आ गया मेरा दिल वहाँ कि जहाँ
बेक़ली इत्मिनान जैसी है

हां 'ज़िया' मुझको भी मिली है ख़ुशी
पर क़फ़स में उड़ान जैसी है