भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

इतिहासों में लिख जाती है / प्रभुदयाल श्रीवास्तव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

यदि डरे पानी से तो फिर,
कैसे नदी पार जाओगे|
खड़े रहे नदिया के तट पर,
सब कुछ यहीं हार जाओगे|

पार यदि करना है सरिता,
पानी में पग रखना होगा|
किसी तरह के संश‍य भय से,
मुक्त हर तरह रहना होगा|

डरने वाले पार नदी के,
कभी आज तक जा न पाये|
वहीं निडर दृढ़ इच्छा वाले,
अंबर से तारे ले आये|

दृढ़ इच्छा श्रद्धा तनमयता,
अक्सर मंजिल तक पहुंचाती|
मंजिल तक जाना पड़ता है,
मंजिल चलकर कभी न आती|

दृढ़ इच्छा, विश्वास अटल, से,
वीर शिवाजी कभी न हारे,
दुश्मन को चुन चुन कर मारा,
दिखा दिये दिन में ही तारे|

वीर धीर राणा प्रताप से,
त्यागी इसी देश में आये|
पराधीन ना हुये कभी भी,
मुगलों से हरदम टकराये|

रानी लक्ष्मी बाई लड़ी तो,
उम्र तेईस में स्वर्ग सिधारी|
तन मन धन सब कुछ दे डाला,
अंतरमन से कभी ना हारी|

वीर बहादुर बनकर रहना,
वीरों की दुनियाँ दीवानी|
इतिहासों में लिख जाती है,
बलिदानों की अमर कहानी|