भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

इधर उधर जो चराग़ टूटे पड़े हुए हैं / राज़िक़ अंसारी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

इधर उधर जो चराग़ टूटे पड़े हुए हैं
सलाम इनको, ये आंधियों से लड़े हुए है

दिखा रहे है हमें जो, अपना फुला के सीना
हमें पता है ये किस के बल पर खड़े हुए हैं

गले मिलने की सुलह की हो पहल किधर से
अभी तो दोनों ही अपनी ज़िद पर अड़े हुए हैं

हक़ीक़तें सब दबी हुई हैं इन्हीं के नीचे
सियासी लोगों ने ऐसे किस्से घड़े हुए हैं

दिखाई देने लगे हैं रिश्ते तमाम बोने
अभी तो साहब कमा के दौलत बड़े हुए हैं