भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

इनि कै काई मिन तेरी जग्वाळ गैल्या / शिवदयाल 'शैलज'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

इनि कै काई मिन तेरी जग्वाळ गैल्या
कतगै बेर बिराड़ि दे मिन काळ गैल्या

द्वी घड़ी रूकि जा ! बोलिक ह्वैगे लापता
त्यार नौ जपदी बीतिं बारा बग्वाळ गैल्या

सर्रा दुन्या जीति छै मिन सच्च बोलि बोलिकि
तेरी समणि ब्वन्न मां ऐ गाळ-गाळ गैल्या

राति अन्धेराम् लुकैं अपड़ गुनाह जौंना
द्वफराम कन छा वो छाळ-न्याळ गैल्या

यादों मोति गैणा बंणि चमकणा सरग मां
मेरी मरीं राई समोदर फाळ गैल्या

मेरी जिन्दगी ध्येय च त्वै थैं मिलणु ’शैलज’
अब तू अगास मील चा पताळ गैल्या।