भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

इनी धरती आदो नींपज्यो आदा का चिकणा ते पान जी / निमाड़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

इनी धरती आदो नींपज्यो, आदा का चिकणा ते पान जी।
इनी कूक दुल्लवजी नींपज्या, माँगऽ माँग छे कन्या को दानजी।
कन्या को दान ते बाबुल बहोत दोयलो,
मूरख सी दियो नी जाय।
लड़की कांय खऽ पाळई रे बाबुल, कांय खऽ पोसी,
कांय खऽ पायो जी काचो दूध।।
माया खऽ पाळई रे बाबुल, माया खऽ पोसी,
माया खऽ पायो काचो दूध जी।
चरवो भी दियो रे बाबूल, गंगाळ भी दीनी,
तो भी नी समझ्या दयालजी।