भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

इन्तजारी में / रामावतार 'राही'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आपनोॅ कंगाली दूर करै वास्तें
लोगोॅ के देखा-देखी कर्जा लै लै केॅ
साले-साल लछमी पूजा मनाय छी ।
आपनोॅ घरोॅ के कोना-कोना सें लै केॅ
नल्ली सें गल्ली तक खूब सजाय छी ।
नै मालूम लछमी माय-
कन्नेॅ सें कखनी आबी जैती
कुच्छू धन हमरा कन पहुँचाय जैती ।
लेकिन आभी तांय ऐसनोॅ नै होलोॅ छै ।
एतना जरूर होलै कि पिछुलका लछमी पूजा रोॅ
कर्जा सूद समेत वसूलै वास्तें
महाजन खड़ा छै हमरोॅ देहरी पर
हमरोॅ इन्तजारी में ।