भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

इन्द्रिय सुख ‌इच्छा से विरहित / हनुमानप्रसाद पोद्दार

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

इन्द्रिय-सुख-‌इच्छा से विरहित, अतिशय मधुर कृष्ण-‌अनुराग।
प्रियतम-सुखमय सहज उदित, सर्वस्व त्याग मन भोग-विराग॥
नहीं कामना-लिप्सा कुछ भी, नहीं कहीं ममता-मद-मान।
केवल हृदय प्रेम-रस पूरित निर्मल निरुपम दिव्य महान॥
देना-ही-देना है जिसमें, लेनेका न कहीं कुछ काम।
उसी प्रेम-रस-‌आस्वादन के लोभी रहते हैं नित श्याम॥