भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

इन्ने के कह्स्याँ / रूपसिंह राजपुरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

म्हारा एक गुरूजी,
बड़ा ही महान है।
आजकाल 'अन्न बचाओ',
अभियान कानी ज्यादा ही ध्यान है।
हफतै मैं तीन-चार दिन,
बरत करैं।
बीं दिन बिचारा बरफी, दूध
अर केला स्यूं ही,
आपगौ पेट भरैं।