भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

इन दिनों / श्याम किशोर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

यह तुम्हारी प्रसाधन की मेज़ है
कभी इस पर शीशियों की लम्बी
कतार रहा करती थी
इन दिनों यह बिल्कुल खाली है ।

इन दिनों
तुम्हारे बेटे के हाथ
पहुँचने लगे हैं
मेज़ की ऊँचाई तक ।