भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

इन हवाओं का इल्मो-हुनर देखिए / ज्ञान प्रकाश विवेक

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

इन हवाओं का इल्मो-हुनर देखिए
नोच डाले परिन्दों के पर देखिए

एक चिड़िया ने मुझसे कहा एक दिन
आपके घर में है मेरा घर, देखिए

आग ही आग है उसके चारों तरफ़
और बारूद है बेख़बर देखिए

चुपके अन्धे कुएँ में गिराकर मुझे
ख़ुश है कर्फ़्यू का मरा शहर देखिए

दूर तक रेत ही रेत और ज़िन्दगी
इक हिरण की भटकती नज़र देखिए

जिसके साये में कोई नहीं बैठता
वो खडा है शजर, चश्मे-तर देखिए