भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

इब्तिदा-ए-फ़स्ल-ए-बाराँ के नाम / रेशमा हिंगोरानी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हर लुत्फ़ अकेले ही उठाने में जुटा है...

बदली की सब अँगडाइयाँ,
बिजली की सब आराइयाँ !

ले दे के मेरे पास क्या,
बाकी ये बचा है...

सूखी सी कुछ जुदाइयाँ,
भीगी सी कुछ रुबाइयाँ !