भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

इश्क़ अब पहले सा कहाँ है जी / स्मिता तिवारी बलिया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

इश्क़ अब पहले सा कहाँ है जी
दरमियां इसके ये जहां है जी।

सारी दौलत यहीं है रह जानी
तुमको किस बात का गुमां है जी।

कौन कहता है मेरा घर ही नहीं
सर पे मेरे ये आसमां है जी।

रूह छोड़ेगी जिस्म को तय है
जिस्म बस भाड़े का मकां है जी।

क्यों भटकते हो तुम इधर से उधर
सबके दिल मे ख़ुदा निहां है जी।