भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

इश्क़ का रोग तो विर्से में मिला था मुझको / भारतभूषण पंत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

इश्क़ का रोग तो विर्से में मिला था मुझको
दिल धड़कता हुआ सीने में मिला था मुझ को।

हाँ ये काफ़िर उसी हुजरे में मिला था मुझको
एक मोमिन जहाँ सज्दे में मिला था मुझको।

उस को भी मेरी तरह अपनी वफ़ा पर था यक़ीं
वो भी शायद इसी धोके में मिला था मुझको।

उस ने ही बज़्म के आदाब सिखाए थे मुझे
वो जो इक शख़्स अकेले में मिला था मुझको।

मंज़िल-ए-होश पे इक मैं ही नहीं था तन्हा
याँ तो हर शख़्स ही नश्शे में मिला था मुझको।

ये भी इक ऐब था मेरी ही नज़र का शायद
रोज़ कुछ फ़र्क़ सा चेहरे में मिला था मुझको।

ऐसे हालात में क्या उस से गिला करता मैं
रात सूरज भी अँधेरे में मिला था मुझको।

मैं अगर डूब न जाता तो वहाँ क्या करता
इक समुंदर था जो क़तरे में मिला था मुझको।

रूह की प्यास बुझाना कोई आसान न था
साफ़ पानी बड़े गहरे में मिला था मुझको।

सच तो ये है कि यहाँ कोई भी मंज़िल ही न थी
वो भी रस्ता था जो रस्ते में मिला था मुझको।