भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

इश्क़ तो है ऐसा मंतर क्या बताएँ आपको / हस्तीमल 'हस्ती'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

इश्क तो है ऐसा मंतर क्या बताएँ आपको
संग को भी कर दे गौहर क्या बताएँ आपको

देखते हैं आपको जब सोचते हैं देर तक
चांद, शीशा, गुल, सुख़नवर, क्या बताएँ आपको

आप तो मिलने की कहकर खो गए हमने मगर
दिन गिने हैं ज़िंदगी भर क्या बताएँ आपको

इश्क के मारे हैं सब शैदाई हैं सब इश्क के
क्या सुख़नवर क्या कलंदर, क्या बताएँ आपको

जो हवेली प्यार की क़ीमत नहीं पहचानती
एक दिन हो जाती खण्डहर क्या बताएँ आपको