भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

इश्क़ नहीं कोई नहंग है यारो / हातिम शाह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

इश्क़ नहीं कोई नहंग है यारो
दुश्मन-ए-नाम-ओ-नंग है यारो

सब्र बिन और कुछ नहीं हमराह
कूचा-ए-इश्क़ तंग है यारो

शम्अ-रू पर न हुए क्यूँ कर डोर
दिल हमारा पतंग है यारो

बात उस तिफ़्ल-ख़ू की रम्ज़-आमेज़
मुज दिवाने को संग है यारो

तिल है तिरयाक चश्म जाम-ए-शराब
सब्ज़ा-ए-ख़त यू बंग है यारो

ज़ुल्फ़ का दिलरूबा की आज ख़याल
दिल कूँ क़ैद-ए-फ़रंग है यारो

उस परी-रू सी और ‘हातिम’ सी
रात दिन सुल्ह ओ जंग है यारो