भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

इश्क़ में पास-ए-जाँ नहीं है दुरूस्त / हातिम शाह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

इश्क़ में पास-ए-जाँ नहीं है दुरूस्त
इस सुख़न में गुमाँ नहीं है दुरूस्त

किसू मशरब में और मज़हब में
ज़ुल्म ऐ मेहरबाँ नहीं है दुरूस्त

डर न दुश्मन कूँ कड़कड़काने में
बाँग मुर्ग़ी के याँ नहीं है दुरूस्त

कई दीवान कह चुका ‘हातिम’
अब तलक पर ज़बाँ नहीं है दुरूस्त