भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

इश्‍तहार / महाप्रकाश

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जुलूस और दंगा हैं पहरेदार
शहर में बंद है खिडकी
और दरवाजों के किवाड
भीतर शतरंज की चाल
युद्ध का पूर्वाभ्‍यास
बाहर भूख से चिल्‍लाते लोग
जनतंत्र के जीवंत इश्‍तहार।