भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

इस क़दर साद-ओ-पुरकार कहीं देखा है / सौदा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

इस क़दर साद-ओ-पुरकार[1] कहीं देखा है
बेनमूदार[2] इतना नमूदार[3] कहीं देखा है

ख़्वाह[4] काबे में तुझे ख़्वाह मैं बुतख़ाने में
इतना समझूँ हूँ मिरे यार कहीं देखा है

दुख-दहिंद[5] और भी हैं लेक[6] किसी के कोई
दिल-सा भी दर-पए-आज़ार[7] कहीं देखा है

नज़र आती ही नहीं शक्ले-रिहाई[8], मुझ-सा
साइते-बद[9] का गिरफ़्तार कहीं देखा है

फिरे है कूच-ओ-बाज़ार में तू क्यों 'सौदा'
जिंसे-दिल[10] का भी ख़रीदार कहीं देखा है



शब्दार्थ
  1. सादा और नाज़-नख़रे वाला
  2. अप्रकट
  3. प्रकट
  4. चाहे
  5. दुख देने वाले
  6. लेकिन
  7. कष्ट देने पर आमादा
  8. रिहाई का उपाय
  9. बुरी साइत
  10. दिल रूपी वस्तु