भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

इस तपती सरहद पर / मनोहर बाथम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

इस तपती
सरहद पर भी
चींटियाँ अवश्य होंगी

मुझे नहीं दिखतीं
मैंने कोशिश भी नहीं की
उन्हें ढूँढ़ने की

हाँ,
गश्त करते-करते
चींटियों के पर उगने वाली
ज़ेहन में खटकती है वो कहावत