भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

इस तरह याद आएँगे हम फ़ुरसतों के दर्मियाँ / हस्तीमल 'हस्ती'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

इस तरह याद आएँगे हम फ़ुरसतों के दर्मियाँ
ज्यों खनक जाए है कुछ ख़ामोशियों के दर्मियाँ

तेरी बीनाई किसी दिन छीन लेगा देखना
देर तक रहना तेरा ये आईनों के दर्मियाँ

क़ैद सा महसूस करता है दिलों का राज़ भी
खुल नहीं जाता है जब तक दूसरों के दर्मियाँ

दूरियाँ-नज़दीकियाँ ऐसी ही हम दोनों में है
जैसी होती है अमूमन दो घरों के दर्मियाँ

इक अलग ही तर्ज़ के होते हैं शोहरत के शिखर
सीढ़ियाँ रहती हैं ग़ायब सीढ़ियों के दर्मियाँ

हर मुसाफ़िर की नज़र ऐसी कहाँ जो देख ले
फ़ासले कुछ और भी हैं फ़ासलों के दर्मियाँ