भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

इस दहलीज पर / राम सेंगर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चलो, छोड़ो कुर्सियों को यहीं,
इस दहलीज पर ही बैठ कर
दो बात करते हैं।
सड़क-बगिया-खेल का मैदान
बच्चे-खिसलपट्टी
चाय पीने का इधर
आनंद ही कुछ और
हमीं देखें, हमें कोई भी न देखे,
यही सुख है
हमारे एकांत का यह
पसंदीदा ठौर।
पेड़-पौधे-फूल-बच्चे-सड़क
नजरों में रहें तो
तुम्हें छूना या न छूना भूल जाते
यही भावों-विचारों में
रंग भरते हैं।
चलो, छोड़ो कुर्सियों को यहीं,
इस दहलीज पर ही बैठ कर
दो बात करते हैं।