भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

इस पतली सड़क पर बच्चों के साथ / सुशील राकेश

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बहुत दिन गुज़ारे / या कहें कि अब
उन बच्चों के बच्चे बड़े होकर
गटागट मसाला खाते / थूकते
और मामूली-मामूली बातों में
अपशब्दों का जलाते अलाव ।

गली के बड़े-बूढ़े भी तापते हैं
मुझे नहीं मालूम की अगली पीढी
इतनी संवादहीन-विहिन मुद्रा के बीच
क्यों जीने लगी है ?
                          
बिजली विभाग के हुक्मरानों का
अँग्रेज़ियत फ़रमान
सब गली के बच्चों को चुभा
औरतों का घंटाघर हिलने लगा
छुटवा / छुट्टू / मंगला / राम औतरवा
सब इस फेरी की मुनादी पर हँसे
और बिजली वालों को गालियाँ देते
परिंदे की तरह उडे--
साले ! पंद्रह दिन से ट्राँसफरमवा खराब
होई गवा / अँधेरे में सड़ रहे / पानी को तरसे
आदि-आदि सहज भाव / गंदे शब्दों के
पुल पर सरकने लगा बतकहा पन ।

सब गली के सिनेमा वाले मोड़ की
लकड़ी वाली लंगड़े की दुकान पर
जुलूस की शक्ल में सिमट कर
आक्रोश व्यक्त करते हुए
लग रहा था कि सब चील-सा
मंडराते हुए बिजली विभाग को
अभी चट करेंगे ।