भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

इस से पहले नज़र नहीं आया / 'रसा' चुग़ताई

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

इस से पहले नज़र नहीं आया
इस तरह चाँद का ये हाला मुझे

आदमी किस कमाल का होगा
जिस ने तस्वीर से निकाला मुझे

मैं तुझे आँख भर के देख सकूँ
इतना क़ाफी है बस उजाला मुझे

उस ने मंज़र बदल दिया यक-सर
चाहिए था ज़रा सँभाला मुझे

और कुछ यूँ हुआ कि बच्चों ने
छीना झपटी में तोड़ डाला मुझे

याद हैं आज भी ‘रसा’ वो हाथ
और रोटी का वो निवाला मुझे