भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

इस हमाम में / राम सेंगर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

यह बुर्जुआ समाज
बुर्जुआ लोग,
बच इनसे
देंगे सँक्रामक रोग !

जिनका छद्म
उधड़कर
झूल रहा
पूरा-पूरा,
यही वक़्त है
तोड़ताड़ सब
इनका तनपूरा,
खिखियाकर मुक्कों से
कब तक
पीटेगा विवेक का माथा
करने नए प्रयोग !

किसे पड़ी है
क्या कुछ है
उस पार अन्धेरे के,
हवा दचक्के मारे
हिलते
खूँटे डेरे के,
इस हमाम में
सब नँगे हैं
ज़बरन जँघा-पीट मची है
तने अज़ब दुर्योग !

यह बुर्जुआ समाज
बुर्जुआ लोग,
बच इनसे
देंगे सँक्रामक रोग !