भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ईमान / दीप्ति गुप्ता

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ईमान को क्या हो गया है
रोते - रोते सो गया है
पहले रहता था दिलों में
आज बेघर हो गया है

हर गली, हर सहन, नुक्कड़
हो गये बेरहम क्यों कर
ठोकरों पे मार ठोकर
उसको घायल कर दिया है
बेसहारा और विवश वो
आज कितना हो गया है
ईमान को क्या हो गया है

मान उसका खो गया सब
नाम उसका मिट गया अब
झूठ के नीचे दबा वह
कालिमा में धँस गया है
पंक में वो फँस गया है
वो नकारा हो गया है
ईमान को क्या हो गया है

जो भी उसका तेज था
और अभी तक शेष था
वो भी अब निस्तेज होकर
खो अँधेरों में गया है
हो गया विकलांग बिल्कुल
अधमरा वो हो गया है
ईमान को क्या हो गया है!